भारतीय संविधान की अनुसूचियां - Study Hindi


भारतीय संविधान की अनुसूची

भारतीय संविधान के मूल पाठ में केवल 8 अनुसूचियो की व्यवस्था की गई थी , परन्तु वर्तमान संविधान में अनुसूचियो की संख्या 12  हो गई है | संविधान की इस अनुसूचियो का विवरण निम्न प्रकार है -----

1.  प्रथम अनुसूची -  इस अनुसूची में भारतीय गणराज्य के राज्यों और केन्द्रशासित प्रदेशो का उल्लेख है | राज्यों और केन्द्रशासित प्रदेशो की वर्तमान संख्या 28 और 8 है

2.    द्वितीय अनुसूची – इस अनुसूची में भारत के विशिष्ट पदाधिकारियों ( राष्ट्रपति , राज्यों के राज्यपाल , उच्चतम न्यायालय तथा उच्च न्यायालयों के न्यायाधीशो , लोकसभा के अध्यक्ष तथा उपाध्यक्ष , राज्यसभा के सभापति और उपसभापति , राज्य की विधानसभाओ के अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष तथा विधान परिषद् के सभापति और उपसभापति तथा भारत के नियंत्रक – महालेखा परिक्षिक आदि) को प्राप्त होने वाले वेतन , भत्ते और पेंशन आदि का उल्लेख किया गया है|

3.    तृतीय अनुसूची----इस अनुसूची में राष्ट्रपति , राज्यों के राज्यपाल , संघ के मंत्रियो , उच्चतम न्यायालय तथा उच्च न्यायालयों के न्यायाधीशो , नियंत्रक महालेखा परीक्षक तथा संसद एवं राज्य विधानमंडलों के निर्वाचित सदस्यों द्वारा ली जाने वाली शपथ तथा प्रतिज्ञान का प्रारूप है|

4.    चौथी अनुसूची –इस अनुसूची में विभिन्न राज्य तथा संघीय क्षेत्रो के राज्यसभा में प्रतिनिधित्व का विवरण दिया गया है |

5.    पांचवी अनुसूची ---इस अनुसूची में विहिन्न अनुसूचित क्षेत्रो और अनुसूचित जनजातियो के प्रशासन और नियंत्रण के बारे में उल्लेख किया है |

6.    छठी अनुसूची –इस अनुसूची में असम , मेघालय , त्रिपुरा , और मिजोरम राज्यों के जनजाति क्षेत्रो के प्रशासन के बारे में प्रावधान है

7.    सांतवी अनुसूची ---इस अनुसूची में तीन सूचियाँ है –1. संघ सूचि ( इसमें 97 विषय शामिल है , जिन पर संसद को कानून बनाने का अहिकर है |) 2. राज्य सूचि ( इसमें 66 विषय शामिल है , जिन पर राजू विधानमंडल बना सकता है |)3. समवर्ती सूचि ( इसमें 47 विषय शामिल है , जिन पर संसद तथा राज्य विधानमंडल दोनों कानून बना सकता है ,लेकिन विवाद की स्थिति में संसद द्वारा निर्मित कानून प्रभावी होता है |

8.    आंठ्वी अनुसूची – इस अनुसूची में संविधान द्वारा मान्यताप्राप्त भारत की 22 भाषाओ का उल्लेख किया गया है
1 असमिया
2 बांग्ला
3 गुजराती
4 हिंदी ,
5 कन्नड़
6 कश्मीरी
7 कोंकणी
8 मलयालम
9 मणिपुरी
10 मराठी
11 नेपाली
12 ओडिया
13 पंजाबी
14 संस्कृत
15 सिन्धी
16 तमिल
17 तेलगु
18 उर्दू
19 बोड़ो
20 मैथली
21 संथाली
22 डोगरी

9.    नौवी अनुसूची –संविधान के प्रथम संशोधन द्वारा नौवी अनुसूची को संविधान में सम्मिलित किया गया | इस अनुसूची में राज्य द्वारा सम्पति के अधिग्रहण की विधियों का उल्लेख किया गया है | इस अनुसूची में सम्मिलित विधियों को न्यायालय में चुनौती नहीं दी जा सकती | इस अनुसूची में विभिन्न अधिनियमों को शामिल किया जाना जारी रहा हिया और आज इस अनुसूची में 284 अधिनियम ने स्थान पा लिया है|

10.  दसवी अनुसूची – इस अनुसूची को 35 वे संविधान संशोधन द्वारा संविधान में स्थान दिया गया |संविधान के 36 वे संविधान संशोधन द्वारा इस अनुसूची को समाप्त कर दिया गया और 25 वे संविधान संशोधन द्वारा इसके स्थान पर एक नयी 10वी अनुसूची को स्थापित किया गया | इस अनुसूची में दल –बदल सम्बन्धी कानून का प्रावधान है|

11  ग्यारहवी अनुसूची –इस अनुसूची को 73 वे संविधान संशोधन द्वारा संविधान में स्थान दिया गया | इस अनुसूची में पंचायती राजव्यवस्था को संवैधानिक दर्जा प्रदान किया गया है |

12.  बारहवी अनुसूची – इस अनुसूची को 74 वे संविधान संशोधन द्वारा संविधान में स्थान दिया गया | इस अनुसूची में नगरपालिका की संरचना , गठन , सदस्यों की  योग्यता , निर्वाचन , नगर सदस्यों की योग्यता , निर्वाचन ,नगर पंचायतो के अधिकार एवं शक्तियों तथा उतर्दयितो के विषय में प्रावधान किया गया है |



Post a Comment