Today Current Affairs In Hindi - 13 Feb 2021

Today Current Affairs In Hindi - 13 Feb 2021 

today current affairs in hindi
Current Affairs - 13 Feb 2021


इंटरनेशनल ड्राइविंग परमिट

विदेश स्थित भारतीय मिशन और पोस्ट परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय की मदद से 15 फरवरी से भारतीये नागरिको को इंटरनेशनल ड्राइविंग परमिट जारी करेंगे |

विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा है की यह सुविधा सिर्फ उन देशो में उपलब्ध कराई जाएगी , जिन्होंने जेनेवा सड़क यातायात सम्मलेन , 1949 पर हस्ताक्षर किया है |

इसरो + मैपमायइंडिया

भारतीय अंतरिक्ष अनुसन्धान संगठन यानी इसरो और लोकेशन एवं नेविगेशन सेवाएं देने वाली कंपनी मैपमायइंडिया ने साथ मिलकर गूगल मैप की ही तरह स्वदेशी सेवा देने की घोषणा की है |

इस पोर्टल पर भारत का सही नक्शा दर्शाया जाएगा साथ ही देश के लाखो गाँवो और हजारो शहरो के गली मोहल्लो की भी सही सही जानकारी होगी |

अर्जुन टैंक ( मार्क – 1ए)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी 14 फरवरी की सुबह चेन्नई में अर्जुन टैंक को सेना को सोपेंगे |

रक्षा मंत्रालय ने बाते है की भारतीय सेना को मजबूत करने के लिए 118 अर्जुन टैंक सेना को दिए जायेंगे इनकी कीमत 8400 करोड़ रुपये है |

इसके साथ ही , पीएमओ ने बयान जारी करके कहा कि मोदी केरल और तमिलनाडु में कई परियोजनाओं का उद्घाटन भी करेंगे |

चेन्नई मेट्रो प्रोजेक्ट के साथ ही केरल में पेट्रो – केमिकल परिसर का उद्घाटन करेंगे | वह उतरी चेन्नई में हवाई अड्डे और सेंट्रल रेलवे स्टेशन के 9.05 किमी लंबे एक्सटेंसन का भी उद्घाटन करेंगे |

मेडिकल डिवाइस पार्क

आत्मनिर्भर भारत की ओर कदम बढ़ाते हुए उतर प्रदेश का पहला मेडिकल डिवाइस पार्क यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में बनने जा रहा है | वर्ष 2023 तक इसे पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है |

मेडिकल डिवाइस पार्क की खासियत

फार्मास्युटीकल उधोग के विकास के लिए एक छतरी के निचे चिकित्सा उपकरण उधोग को स्थापित करना है यह रसायन और उर्वरक मंत्रालय की एक उप योजना है |

यह योजना दो चरणों में तैयार किया जाएगा

पहले चरण में 125 एकड़ में शेड बनाकर उधोगो को आवंटित किए जायेंगे दुसरे चरण में 225 एकड़ एरिया में भी यही योजना आएगी |

न जमीन खरीदनी पड़ेगी, न इमारत बनानी पड़ेगी: मेडिकल डिवाइस पार्क की खासियत यह है कि इसमें उद्योग कम समय में लग सकेंगे। उद्योगपतियों को न जमीन खरीदनी पड़ेगी और न ही इमारत बनाने की जरूरत होगी। उनकी लागत भी कम आएगी। इससे कम समय में उद्योग शुरू हो सकेंगे और सकरारी प्रक्रिया भी होगी।

विशाखापत्तनम से सीख: विशाखापत्तनम में मेडिकल डिवाइस पार्क बना हुआ है। वहां इसी तरह शेड का उपयोग किया गया है। यीडा के दोनों एसीईओ शीघ्र ही विशाखापत्तनम जाएंगे। अध्ययन करने के बाद फार्मा उद्योग से जुड़े लोगों से चर्चा कर डिजाइन किया जाएगा। शेड की कीमत जमीन और निर्माण खर्च को जोड़कर तय होगी।

100 शेड तैयार किए जाएंगे: मेडिकल डिवाइस पार्क में फिलहाल 100 के करीब शेड तैयार किए जाएंगे। जरूरत पड़ी तो दूसरे चरण के शेड भी जल्द बनाए जाएंगे। ये शेड 90 साल की लीज पर आवंटित होंगे।

अगले माह तक बनेगी योजना: प्राधिकरण ने इसके लिए सेक्टर-28 में 350 एकड़ जमीन तय कर दी है। इसकी योजना अगले माह आएगी। पहली बार प्लॉट के बजाय तैयार शेड उद्योगों को आवंटित किए जाएंगे। वे इनमें शीघ्र इकाई लगाकर मेडिकल उपकरणों का उत्पादन कर सकेंगे। इससे निवेश के साथ ही रोजगार के हजारों अवसर कम समय में युवाओं को मिल सकेंगे।

केंद्र से मिलेगी 100 करोड़ रुपये की मदद: केंद्र सरकार द्वारा चार राज्यों में बल्क ड्रग पार्क और मेडिकल डिवाइस पार्क बनाने का निर्णय लिया गया है। इसमें बड़े राज्यों ने आवेदन दिया है। उत्तर प्रदेश की तरफ से यमुना प्राधिकरण ने भी इसके लिए आवेदन किया है। अगर इसे योजना में चुन लिया जाता है तो मेडिकल पार्क को बनाने में केंद्र सरकार से करीब 100 करोड़ रुपये का अनुदान मिलेगा।

चार राज्य ( आँध्रप्रदेश , तेलंगाना , तमिलनाडू और केरल में स्थापित किए जायेंगे |

उतराखंड और गुजरात ने भी इस तरह के पार्क के लिए केंद्र से संपर्क किया है |

Post a Comment