Today Current Affairs In Hindi - 17 Feb 2021

Today Current Affairs In Hindi - 17 Feb 2021 

today current affairs in hindi
Current Affairs - 17 Feb 2021


जलापूर्ति योजना

जल जीवन मिशन के तहत शहरी क्षेत्रो में भी हर घर नल से जल पंहुचाने की तैयारियों को अंतिम रूप दिया जाने लगा है | शहरी क्षेत्रो में उचित जल वितरण और सीवेज के जल को साफ़ कर पुनः उपयोग की संभावनाओ पता लगानेके लिए शहरी विकास मंत्रालय एक पायलट प्रोजेक्ट लांच करेगा | शहरी क्षेत्रो में इसके तहत पेयजल सर्वेक्षण प्रारंभ किया जाएगा |

पेयजल सर्वेक्षण में आपूर्ति किए जाने वाले पानी की मात्रा , गुणवत्ता और जल निकायों की मैपिंग की जाएगी
पेयजल सर्वेक्षण के पायलट प्रोजेक्ट की लॉन्चिंग करने के बाद शहरी विकास मंत्रालय की सचिव दुर्गाशंकर मिश्र ने बताया की पहले चरण में 10 प्रमुख शहरो में यह परियोजना चलाई जाएगी |

इनमे आगरा , बदलापुर , भुवनेश्वर , चुरू , कोच्चि , मदुरे , पटियाला , रोहतक , सूरत और तुमकुर शामिल है |

पायलट सर्वेक्षण के सकारात्मक नतीजो के आधार पर सर्वेक्षण का विस्तार देश के सभी 500 अमृत शहरो में किया जाएगा |

इन परियोजनाओ के लिए केंद्र सरकार की तरफ से तीन चरणों में बजट आवंटित किया जाएगा | पहली क़िस्त में कुल लागत का 20 फीसद दिया जाएगा , जबकि दूसरी और तीसरी क़िस्त समान यानी 40 – 40 फीसद होगी |

शहरी जल जीवन मिशन का उद्देश्य

शहरी जल जीवन मिशन का उद्देश्य 4378 शहरी निकायों के सभी परिवारों को नल से स्वच्छ पानी की सप्लाई करना है जबकि 500 अमृत शहरो में सीवर प्रबंधन भी करना है |

500 अमृत शहरो में शहरी परिवारों के 2.68 करोड़ परिवारों को नल का पेयजल उपलब्ध करना है , जबकि 2.6 करोड़ घरो को सीवर कनेक्शन देना है |

जल जीवन मिशन की लागत

जल जीवन मिशन के लिए कुल प्रस्तावित लागत 2.87 लाख करोड़ रूपये है |

ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी

रश्मि सामंत भारतीय मूल की महिला ने ब्रिटेन की विश्व विख्यात ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी के छात्र संघ में अध्यक्ष पद का चुनाव जीत कर इतिहास रच दिया है |

रश्मि का सम्बन्ध भारत के कर्नाटक के मनिपाल से है |

रश्मि को इस चुनाव में पड़े कुल 3708 वोट में से 1966 वोट हासिल हुए है |

अमेज़न का पहला विनिर्माण संयंत्र

ई – रिटेलिंग कंपनी अमेज़न ने कहा है कि वह फॉक्सकौन की सहयक कंपनी क्लाउड नेटवर्क टेक्नोलॉजी के साथ साझेदारी में इस साल के अंत में चेन्नई में फायर टीवी स्टिक सहित अपने अन्य उपकरणों का विनिर्माण शुरू कर देगी |

यह भारत में अमेज़न का पहला विनिर्माण संयंत्र होगा , जो आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए सरकार के मेक इन इंडिया के दृष्टिकोण के प्रति हमारी प्रतिबद्धता को दोहराता है |

इंडियन साइन लैंग्वेज डिक्शनरी

केन्द्रीय सामाजिक न्याय तथा अधिकारिता मंत्री श्री थावरचंद गहलोत 17 फरवरी 2021 को एक वर्चुअल कार्यक्रम में इंडियन साइन लैंग्वेज डिक्शनरी का लोकार्पण करेंगे |

इस शब्दकोष में 10 हजार शब्द ( पहले के छः हजार शब्द सहित ) होंगे |

यह शब्दकोष इंडियन साइन लैंग्वेज रिसर्च एंड ट्रेनिंग सेंटर ने तैयार किया है | यह सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय के दिव्यान्ग्जन सशक्तिकरण विभाग के अंतर्गत एक स्वायत संसथान है |

इंडियन साइन लैंग्वेज डिक्शनरी के तीसरे संस्करण में दैनिक उपयोग के शब्द , अकादमिक शब्द , क़ानूनी तथा प्रशासनिक शब्द , मेडिकल शब्द , तकनिकी तथा कृषि जैसे विषयो के कुल दस हजार शब्द है |

इंडियन लैंग्वेज डिक्शनरी का पहला संस्करण  3000 शब्दों के साथ 23 मार्च 2018 को लांच किया गया था और दूसरा संस्करण 6 हजार शब्दों ( पहले के तीन हजार शब्द सहित ) के साथ 25 फरवरी 2019 को लांच किया गया था |

ऑनलाइन नामांकन मॉडयुल लांच

आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय के सचिव श्री दुर्गा शंकर मिश्रा ने 16 फरवरी को वीडियो कांर्फ्रेंसिंग के माध्यम से टेक्नोग्राही के लिए ऑनलाइन नामांकन मॉडयुल लांच किया |

टेक्नोग्राही : - आईआईटी , एनआईटी , इंजीनियरिंग , योजना और स्थापत्य कला कॉलेज के छात्र , संकाय सदस्य , शिक्षाविद और अन्य हितधारक है |

आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय के सचिव श्री दुर्गा शंकर मिश्रा ने कहा की इच्छुक उम्मीदवार ज्ञान प्राप्ति , परामर्श , नए विचार व् समाधान , अनुप्रयोग ,नवाचार और तकनीकी जागरूकता के लिए एलएचपीसाइटों पर इन लाइव प्रयोगशालाओं से जुड़ने के लिए अपना पंजीकरण करा सकते है |

ई – न्यूजलेटर लांच

श्री मिश्र ने एलएचपी ई – न्यूजलेटर भी लांच किया , जो प्रत्येक स्थल पर परियोजनाओ की प्रगति को दर्शाता है |यह ई – न्यूजलेटर का पहला संस्करण है |

छात्रो , संकाय सदस्यों , हितधारको और आम लोगो को लेखो और तस्वीरों के माध्यम से विकास कार्यो की जानकारी देने के लिए हर महीने बारह ऐसे ई- न्यूजलेटर और आम लोगो को लेखो और तस्वीरों के माध्यम से विकास कार्यो की जानकारी देने के लिए हर महीने बारह ऐसे ई – न्यूजलेटर जारी किए जाएँगे | इससे प्रत्येक स्थल की प्रगति को लेकर छः राज्यों के बीच एक स्वस्थ प्रतिस्पर्धा को बढ़ावा मिलेगा |  

Post a Comment